google.com, pub-3332830520306836, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

आकाशीय पिंड (Celestial Bodies)

मंदाकिनी (Galaxy)

  • तारों का विशाल समूह मंदाकिनी कहलाता है। 

  • एक मन्दाकिनी में अरबों तारे स्थित हो सकते हैं। 

  • ब्रह्माण्ड में मंदाकिनियों की संख्या करोड़ों हैं। 

  • एक मंदाकिनी में विशाल तारों का समूह धुंधला सा दीखता है, इन्हें तारे निर्माण की प्रक्रिया का प्रारम्भिक गैस पुंज माना जाता है। 

  • हमारी पृथ्वी की भी एक मंदाकिनी है। 

  • हमारी पृथवी की मंदाकिनी को दुग्धमेखला अथवा आकाश गंगा (Milky way) कहा जाता है। 

  • आकाशगंगा का 80% भाग सर्पीला (Spiral) होता है। 

  • आकाशगंगा को सर्वप्रथम देखने वाले वैज्ञानिक थे गैलीलियो। 

  • आकाशगंगा रात्रि में एक बहती नदी की तरह उत्तर - दक्षिण दिशा में बहती है। 

  • आकाशगंगा से निकटम दुरी पर स्थित एक अन्य मंदाकिनी देवयानी (Andromeda) है। 

  • नवीनतम ज्ञात मन्दाकिनी ड्वॉर्फ मंदाकिनी (Dwarf Galaxy) है। 

  • तारों के समूह को यूरोप में मिल्की वे (Milky Way) कहा जाता है। 

  • तारों के समूह को यूनान में गैलेक्सी (Galaxy) कहा जाता है। 

  • तारों के समूह को भारत में आकाश गंगा अथवा मंदाकिनी कहा जाता है। 

 

तारा (Star)

  • तारों का निर्माण हाइड्रोजन और हीलियम गैसों से होता है। 

  • सौर मंडल में सर्वाधिक चमकीला तारा साइरस (Cyrus) है। 

  • साइरस (Cyrus) का दूसरा नाम डॉग स्टार (Dog Star) है। 

  • साइरस (Cyrus) सूर्य से लगभग 2.5 गुना चमकीला, 2.35 गुना बड़ा और 543864 गुना दूर है। 

  • साइरस (Cyrus) की अपेक्षा पृथ्वी की सूर्य से दुरी कम होने के कारण सूर्य ज्यादा चमकीला दिखाई देता है। 

  • ध्रुव तारा (Pole Star) सदैव उत्तर दिशा में चमकता हुआ दिखाई देता है। 

  • सूर्य भी एक तारा है। 

  • सूर्य के बाद पृथ्वी से सबसे निकटम तारा प्रॉक्सीमा सेंचुरी (Proxima Century) है। 

  • प्रॉक्सीमा सेंचुरी की पृथ्वी से दुरी 4.22 प्रकाश वर्ष है। 

 

निहारिका (Nebula)

  • यह अत्यधिक प्रकाशमान होते हैं। 

  • करोड़ों तारों का विशाल गुच्छा जो गैस और धूलकण से बने होते हैं निहारिका कहलाते हैं। 

  • निहारिका के नाभिक में  अत्यधिक प्रज्वलनशील गैसों के कारण ही यह चमकदार दिखाई देता है। 

  • लाइरा, आरियन, विनोटीसी,केनिस आदि प्रमुख निहारिकायें हैं। 

 

ग्रह (Planets)

  • तारों की प्रक्रिमा करने वाले आकाशीय पिंड ग्रह कहलाते हैं। 

  • हमारी पृथ्वी भी एक ग्रह है। 

  • ग्रहों का अपना प्रकाश नहीं होता है। 

  • यह तारों से प्रकाश ग्रहण करते हैं। 

 

उपग्रह (Satellite)

  • किसी ग्रह की परिक्रमा करने वाले लघु आकाशीय पिंड उपग्रह कहलाते हैं। 

  • उपग्रह भी प्रकाश रहित होते हैं। 

  • जैसे पृथ्वी के अपने उपग्रह का नाम चन्द्रमा है।

 

क्षुद्र ग्रह (Asteroids)

  • मंगल और बृहस्पति जैसे बड़े ग्रहों के बीच में कई छोटे - छोटे ग्रह मौजूद हैं, जिन्हें क्षुद्र ग्रह कहा जाता है।