google.com, pub-3332830520306836, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

भारत पर विदेशी आक्रमण (Foreign invasion of India)

फ़ारसी आक्रमण (Persian Invasion) 

  • प्राचीन फारस देश (ईरान) का "सायरस" भारत पर आक्रमण करने वाला ज्ञात प्रथम विदेशी आक्रमणकारी था।  

  • सायरस का शासनकाल 588 ईसा पूर्व  से 530 ईसा पूर्व था। 

  • सिंधु के पश्चिम काबुल तक के प्रायः सभी कबीले सायरस के अधीन थे। 

  • उसने काबुल के पास स्थित "कपीसा" नामक नगर को बर्बाद कर दिया था। 

  • सायरस का उत्तराधिकारी उसका पुत्र "कैम्बेसिस" फारस का शासक बना। 

  • कैम्बेसिस का पुत्र "डेरियस प्रथम" शासक बना तो उसने 518 ईसा पूर्व  सिंधु घाटी पर आक्रमण कर दिया था और उसे अपने अधीन कर लिया था। 

  • भारत डेरियस का 20 वां प्रान्त था। 

  • इस विषय की पुष्टि महान इतिहासकार "हेरोडोटस" करते हैं। 

  • "जेरेक्सस" डेरियस के बाद फारस का शासक बना। 

  • जेरेक्सस ने भारतके कुछ प्रांतों को अपने सैनिक जत्थों के निर्माण के लिए उपयोग किया था। 

  • डैरियस तृतीय जेरेक्सस के बाद फारस का शासक बना। 

  • सिकंदर ने डैरियस तृतीय  को युद्ध में हरा दिया और फारस का शासक बना। 

 

सिकंदर महान का भारत पर आक्रमण (Alexander the Great invaded India)

  • ईरानी आक्रमण के बाद भारत पर दूसरा महत्वपूर्ण आक्रमण यूनानियों का था। 

  • सिकंदर महान यूनानी आक्रमण का नेतृत्वकर्ता था। 

  • सिकंदर यूनान स्थित "मकदूनिया" के राजा "फिलिप" का पुत्र था। 

  • फिलिप 359 ईसा पूर्व में मकदूनिया का शासक बना। 

  • फिलिप के हत्या 329 ईसा पूर्व कर दी गयी थी। 

  • फिलिप की हत्या के बाद "सिकंदर"  मकदूनिया का शासक बना। 

  • सिकन्दर महान यूनानी दार्शनिक "अरस्तु" का शिष्य था। 

  • सिकंदर का भारत विजय अभियान 326  ईसा पूर्व शुरू हुआ और वह भारत में 14 महीनों तक रहा। 

  • सिकंदर का सेनापति "सेल्यूकस निकेटर" और जल सेनापति "नियोकस" था। 

  • विषविजेता बनाने का सपना सिकंदर ने बचपन में देखा था। 

  • इस स्वप्न को पूरा करने के लिए ही सिकंदर ने भारत पर आक्रमण किया था। 

  • पंजाब के राजा "पोरस" के साथ सिकंदर का युद्ध ऐतिहासिक महत्व का था। 

  • "चिनाब" तथा "झेलम" नदियों के मध्यवर्ती प्रदेश के शासक "पोरस" को हारने में सिकंदर को अपनी सम्पूर्ण शक्ति झोंक देनी पड़ी थी। 

  • सिकंदर और पोरस के बीच हुए युद्ध को इतिहास में "हाइडेस्पीज का युद्ध" अथवा "झेलम (वितस्ता)" का युद्द के नाम से जाना जाता है। 

  • सिकंदर की सेना ने व्यास नदी के रौद्र रूप  को देख भारत में युद्ध के लिए आगे बढ़ने से इंकार कर दिया था। 

  • स्थल मार्ग से 325 ईसा पूर्व में सिकंदर अपनी सेना के साथ भारत से लौट गया था। 

  • सन 328 सिकंदर ने समस्त ईरानी साम्राज्य और अफगानिस्तान पर विजय प्राप्त कर लिया था। 

  • गंम्भीर बीमारी से ग्रस्त सिकंदर की 33 वर्ष की अवस्था में  323 ईसा पूर्व में मृत्यु हो गयी थी। 

  • भारत में सिकंदर 14 महीनों तक रहा था। 

  • उसके भारत के आक्रमण से भारत - यूनान (ग्रीस) के बीच सम्पर्क कायम हुआ था, जिससे दोनों देशों के बीच व्यापारिक सम्बन्ध कायम हुए थे।