google.com, pub-3332830520306836, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

बिहार की भौगोलिक संरचना

  • बिहार उत्तरपूर्वी भारत का एक भू - आविष्ट राज्य है। जिसके उत्तर में नेपाल, दक्षिण में झारखण्ड, पूर्व में पश्चिम बंगाल और पश्चिम में उत्तरप्रदेश स्थित है।  

  • बिहार की आकृति लगभग आयताकार है, जिकी लम्बाई उत्तर से दक्षिण 345 किमी और चौड़ाई पूर्व से पश्चिम 483 किमी है। 

  • बिहार राज्य का क्षेत्रफल 94,163 वर्ग किमी है। जो भारत का 2.08 % है। 

  • क्षेत्रफल की दृष्टि से बिहार भारत में बारहवें स्थान पर आता है। 

  • समुद्रतल  से इस राज्य की ऊंचाई 53 मी है।  तथा यह समुद्र से गंगा - हुगली नदी मार्ग से जुड़ा हुआ है। बिहार समुद्रतल से लगभग 200 किमी दूर है। 

भू - गर्भिक संरचना 

बिहार में में पाए जाने वाले चट्टानों को चार प्रमुख संरचनात्मक समूहों में रखा जा सकता है:-

  • धारवाड़ चट्टानें 

  • विंध्यन समूह की चट्टानें 

  • टर्शियर चट्टानें 

  • क्वार्ट्नरी चट्टानें 

गंगा के दक्षिण में जलोढ़ की गहराई पहाड़ियों के निकट अपेक्षाकृत कम है, जबकि इसके पश्चिम की ओर  बढ़ने पर जलोढ़ की गहराई बढ़ती है।  जलोढ़ की गहराई आधार शैलों पर 100 मी से लेकर 700 मी तक  है।

बिहार : प्राकृतिक स्वरुप 

 

प्राकृतिक स्वरुप को प्रमुख तीन रूपों में बांटा जा सकता है: -

  • शिवालिक पर्वत श्रेणी 

  • बाहर का मैदान  

  • दक्षिण का संकीर्ण  पठार 

शिवालिक पर्वत श्रेणी 

  • यह बिहार के उत्तर पश्चिम भाग में पश्चिमी चम्पारण जिले के उत्तरी भाग में स्थित है।  इसका विस्तार 932 वर्ग किमी क्षेत्र में है।  तथा यह 250 - 80 मी ऊँचा है। 

 

स्थानीय उच्चावच के आधार पर इसे तीन उप भागों में बांटा जा सकता है :- 

  1. रामदून की पहाड़ियां 

  2. दून घाटी 

  3. सोमेश्वर श्रेणी

 बिहार का मैदान 

  • यह उत्तर में नेपाल से लेकर दक्षिण में झारखण्ड के छोटानागपुर की उत्तरी सिमा तक फैला हुआ है। इसका क्षेत्रफल 45000 वर्ग किमी है। 

  • इसकी ढाल सर्वत्र एक समान और ढीली है।  इसकी समुद्र ताल से ऊंचाई 60 मी मध्य है, जबकि गहराई 1000 मी से 1500 मी के मध्य है। 

गंगा नदी इस मैदान को दो भागों में बांटती है :- 

  1. गंगा का उत्तरी मैदान 

  2. गंगा का दक्षिणी मैदान 

दक्षिण का संकीर्ण पठार 

  • यह पठार एक संकीर्ण पट्टी के रूप में पश्चिम में कैमूर जिले से लेकर पूर्व में मुंगेर एवं बांका जिले तक विस्तृत है। 

  • यह बिहार का प्राचीनतम भू -खंड है तथा यह 2581 वर्ग किमी तक विस्तृत है। 

  • इस क्षेत्र में दो पठार प्रमुख है:- 

  1. कैमूर का पठार जिसे रोहतास का पठार भी कहा जाता है। 

  2. खड़गपुर की पहाड़ी