google.com, pub-3332830520306836, DIRECT, f08c47fec0942fa0

ईंधन (Fuels)

वे पदार्थ जो जलकर ऊष्मा प्रदान करते हैं, ईंधन (Fuels) कहलाते हैं। 

बायोगैस:- 

  • सूक्ष्मजीवों के अवयवीय ऑक्सीजन द्वारा उत्पन्न गैस बायोगैस कहलाते हैं। 

  • बायोगैस का मुख्य घटक :- मीथेन (65%), इसके अलावा CO2, H2S, Hइत्यादि। 

  • लकड़ी के भंजक आसवन से काष्ठ कोक, काष्ठ अलकतरा, काष्ठ गैस एवं पायरोलिग्नियस अम्ल प्राप्त होता है। 

 

कोयला:-

कार्बन की मात्रा के आधार पर कोयला 4 प्रकार का होता है - 

  • ऐंथ्रासाइट:- 90% - 95% कार्बन 

  • लिग्नाइट:- 65% - 70% कार्बन 

  • बिटुमिनस:- 70% - 80% कार्बन 

  • पीट:- 30% - 35% कार्बन 

  • कोयले के भंजक आसवन से कोक, अलकतरा, कोल गैस एवं अमोनीकल द्रव प्राप्त होता है। 

 

पेट्रोलियम:-

  • उच्च अणुभार वाले दुर्गन्ध युक्त हाइड्रोकार्बन का यौगिक जो चट्टानों के निचे से प्राप्त होता हैं पेट्रोलियम कहलता है। 

  • सर्वप्रथम अमेरिका के पेनिसिलवानिया में पेट्रोलियम प्राप्त किया गया था, उसके बाद भारत में असम के माकुम में 1867 में पेट्रोलियम प्राप्त हुआ था। 

 

कोल गैस:-

  • हाइड्रोजन 54%मीथेन 35%, कार्बन मोनो ऑक्साइड 5%, कार्बन डाइऑक्साइड 30% 

 

प्रोडूसर गैस:-

  • नाइट्रोजन 70%, कार्बन मोनो ऑक्साइड 25%, कार्बन डाइऑक्साइड 5% 

 

जल गैस:-

  • हाइड्रोजन 49%, कार्बन मोनो ऑक्साइड 45%, कार्बन डाइऑक्साइड 5%

  • L. P. G. (Liquified Petroleum Gas / द्रवित पेट्रोलियम गैस):- नार्मल और आइसोब्यूटेन का मिश्रण। 

  • गंध के लिए इसमें मिथाइल मरकापटेन मिलाया जाता है। 

  • राकेट में प्रयुक्त होने वाले ईंधन को प्रणोदक कहते हैं। 

  •  पेट्रोल में एलकोहॉल मिलाकर पॉवर एलकोहॉल बनाया जाता है जो ऊर्जा का वैकल्पिक स्रोत है। 

डायनामाइट 

आविष्कारक : अल्फ्रेड नोबेल (1867)

  • इसे नाइट्रोग्लिसरीन को किसी अक्रिय पदार्थ जैसे लकड़ी के बुरादे में अवशोषित करके बनाया जाता है। 

  • आधुनिक डायनामाइट में नाइट्रोग्लिसरीन की जगह सोडियम नाइट्रेट का  प्रयोग किया जाता है।

  • T. N. T. (ट्राइनाट्रो फिनॉल), इसे पिक्रिक अम्ल भी कहते हैं।  इसे फिनॉल एवं सांद्र HNO3 की क्रिया से बनाया जाता है। 

  • R. D. X. में तापमान और आग की गति को बढ़ाने के लिए एल्युमिनियम चूर्ण को मिलाया जाता है। 

Design Paper
Contact Us

Contact Information

…  6209908627  

  • Whats app
  • LinkedIn
  • Facebook
  • Twitter

                                              Thanks for your interest in Nutangyankosh.

                      For more information, feel free to get in touch and I will get back to you soon!

©2020 by nutangyankosh. Proudly created with Wix.com