google.com, pub-3332830520306836, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

कोशिका विज्ञान 

  • कोशिका के अध्ययन को Cytology कहा जाता है। 

  • जीव द्रव्य (Protoplasm) मटमैले (Grey) रंग का लसदार अर्धपारदर्शक (Translucent) गाढ़ा तरल पदार्थ है। इसका घनत्व पानी से अधिक होता है तथा जल की मात्रा के अनुसार घटता - बढ़ता है। 

  • जीव द्रव्य जल की औसत मात्रा 60 - 75%   होती है, किन्तु यह घटती - बढ़ती है। 

  • पादप जीव द्रव्य में जल की मात्रा 90% तक या इससे अधिक होती है। 

जीव द्रव्य का 95% भाग निम्न चार तत्वों से मिलकर बना होता है - 

  1. ऑक्सीजन (62%)

  2. कार्बन (20%)

  3. हाइड्रोजन (10%)

  4. नाइट्रोजन (3%)

  • जीव द्रव्य में कार्बनिक और अकार्बनिक यौगिकों का अनुपात 81 : 19 होता है। 

  • हक्सले के अनुसार जीव द्रव्य जीवन का भौतिक आधार होता है। 

  • जीव  द्रव्य  को सर्वप्रथम कोर्टी (Corti) ने 1771 में जीवित कोशिका में देखा था। 

  • जीव द्रव्य का सर्वप्रथम नामकरण पुरकिंजे (Purkinje) ने 1840 में किया था। 

  • डुजार्डिन (Durjardin) ने 1835 में जीव द्रव्य को सारकोड की संज्ञा दी थी। 

  • कोशिका के भीतर जीव द्रव्य दो भागों में बंटा रहता है :

  1. कोशिका द्रव्य (Cytoplasm): यह केन्द्रक एवं कोशिका झिल्ली के बीच रहता है। 

  2. केन्द्रक द्रव्य (Nucleoplasm): यह केन्द्रक के भीतर होता है। 

  • पेशिया कोशिका (Muscular cells) में जीव द्रव्य में साइकोप्लास्म तथा तंत्रिका में न्यूरोप्लास्म कहते हैं। 

 

कोशिका (Cells)

  • जीव शरीर की सबसे छोटी, रचनात्मक, क्रियात्मक एवं आनुवांशिक इकाई को कोशिका कहा जाता है। 

  • कोशिका के बारे में सबसे पहले जानकारी वैज्ञानिक हुक ने 1665 में दी थी। 

  • Cell शब्द ग्रीक भाषा के Cellula शब्द से उत्पन्न हुआ है। 

  • PPLO (Pleuro - Pneumonia like Organism or Mycoplasma) सबसे छोटी कोशिका का उदाहरण है।

  • इसका व्यास 0.1 µ से 0. 25 µ होता है। 

  • शुतुरमुर्ग के अण्डे (Ostrich Egg) की कोशिका सबसे बड़ी कोशिका है, जिसका व्यास 170 x 135 mm होता है। 

  • तंत्रिका कोशिका या न्यूरॉन सबसे लम्बी कोशिका है जो 3 - 3.5 फ़ीट तक लम्बी होती है। 

  • R.B.C. (लाल रक्त कण) मानव शरीर की छोटी कोशिका का उदहारण है जिसका औसत व्यास लगभग 7.2 µ (1 µ = 1 / 1000 mm) होता है। 

  • मनुष्य के शरीर में लगभग 60 x 10 15 पायी जाती हैं। 

  • 1838 -1839 में वनस्पति शास्त्री श्लाइडेन (Schleiden) और प्राणिशास्त्री श्वान (Theodor Schwann)   ने कोशिका सिद्धांत (Cell Theory) का प्रतिपादन किया था। 

 

कोशिका सिद्धांत की मुख्य बातें निम्नवत हैं :- 

  • प्रत्येक जीव की उत्पत्ति एक कोशिका से होती है। 

  • प्रत्येक जीव का शरीर एक या अनेक कोशिकाओं का बना होता है। 

  • प्रत्येक कोशिका एक स्वतंत्र इकाई है, तथपि सभी एक साथ मिलकर कार्य करते हैं फलस्वरूप एक जीव का निर्माण होता है। 

  • कोशिका का निर्माण जिस भी प्रक्रिया द्वारा होता है, इसमें केन्द्रक निर्माणकर्ता (Creator) की भूमिका अदा करता है। 

पादप और जंतु कोशिका में अंतर 

प्रोकैरियोटिक एवं यूकैरियोटिक कोशिका में अंतर्