google.com, pub-3332830520306836, DIRECT, f08c47fec0942fa0

जन्तु ऊतक (Animal Tissue)

  • रचना और उत्पत्ति में समान कोशिकाओं के समूह को ऊतक कहते हैं।

  • ऊतकों का अध्य्यन हिस्टोलोजी (Histology) कहलाता है।

  • इस शब्द का व्यवहार सबसे पहले मेयर (Mayer, 1819) में किया था।

  • अंतः कोशिकीय पदार्थ (Inter Cellular Substances) या Matrik की उपस्थिति ऊतकों की मुख्य पहचान है।

 

जंतुयों के शरीर में चार प्रकार के ऊतक पाए जाते हैं:- 

  • उपकला ऊतक (Epithelial Tissue)

  • संयोजी ऊतक (Connective Tissue)

  • पेशी ऊतक (Muscular Tissue)

  • तांत्रिक ऊतक (Nervous Tissue)

1. उपकला ऊतक (Epithelial Tissue)

  • यह विभिन्न अंगों के बाहरी एवम भीतरी सतह को स्तरित करता है।

  • इस ऊतक में Matrix की कमी होती है।

  • इस ऊतक की कोशिकाएं एक जीवित झिल्ली पर सटी होती हैं जिसे Basement Membrane कहते हैं।

  • इस ऊतक की कोशिकाएं जब Blood Vessels के भीतरी भागों में पाई जाती हैं तब इन्हें  Endo Thelial Cells कहा जाता है।

 

2. संयोजी ऊतक (Connective Tissue)

  • यह ऊतक विभिन्न अंगों को और ऊतकों को जोड़ने का कार्य करता है। इसमें Matrix की मात्रा अधिक होती है। इस ऊतक में Tendon और  Ligaments दो तंतु पाए जाते हैं।

  • Tendons हड्डियों को पेशियों से और Ligaments हड्डियों को हड्डियों से जोड़ता है। उपास्थि (Cartilage) एवम अस्थि (Bone) भी एक प्रकार के संयोजी ऊतक हैं, जिन्हें कंकाल संयोजी ऊतक कहा जाता है। Cartilage के Cells को Chondrioblast और Bone के Cells को Osteoblast कहते हैं।

  • स्तनधारियों के Bone में Haversian Canals नामक रचना पायी जाती है।

  • रक्त और लसिका (Lymphs) तरल संयोजी ऊतक का उदाहरण है जो पदार्थों के परिवहन में सहायक होता है।

 

3. पेशी ऊतक (Muscular Tissue)

  • यह ऊतक शरीर में प्रचलन और विभिन्न प्रकार की गतियों को नियंत्रित करता है। ऊतक में तीन प्रकार की पेशियाँ पायी जाती हैं।

 

A) आरेखित या अनैच्छिक पेशी (Unstripped or Involuntary Muscles)

  • यह पेशी आहारनाल, मलाशय, मूत्राशय, रक्त वाहिनियां इत्यादि भागों में स्थित होता है तथा अनैक्षिक गतियों को नियंत्रित करता है।

 

B) रेखित या ऐक्षिक पेशी (Stripped or Voluntary Muscles)

  • इसे कंकाल पेशी भी कहते हैं क्योंकि यह कंकाल के साथ जुड़ी रहती है।

  • ये पेशी उन भागों में पाई जाती हैं जो इच्छानुसार गति करते हैं।

  • इस पेशी के बीच बीच में धारियां पायी जाती हैं, इसी कारण इसे रेखित पेशी कहते हैं।

 

C) Cardiac Muscles (हृदयक पेशी)

  • यह पेशियाँ केवल हृदय की भित्तियों में ही उपस्थित होते हैं, जो बिना रुके जीवनपर्यतन गति करते हैं।

  • इसके बीच बीच में इंटरकैलेटेड डिस्क (Intercalated Disk) नामक रचना पायी जाती है।

  • पेशी ऊतक की कोशिकाओं में उपस्थित जीवद्रव्य को साकोपलिस्म कहा जाता है। 

  • जीव द्रव्य में अनेक सूक्ष्म तंतुएं पायी जाती है, जिन्हें माइकोफाइब्रिल्स  कहते हैं।

  • मानव शरीर में 639 मांसपेशियां होती है।

  • सबसे बड़ी मांसपेशी कूल्हे की मांसपेशी (ग्लूटियस मैक्सिमस) तथा सबसे छोटी मांसपेशी स्टैपिडियस  होती है। 

 

तंत्रिका ऊतक (Nerve Tissue)

  • इसे चेतना ऊतक भी कहा जाता है,इसके जीवद्रव्य में irritability नामक प्रधान लक्षण उपस्थित होता है।

  • इस ऊतक की कोशिका को तंत्रिका कोशिका या न्यूरॉन कहा जाता है।

  • इसमें उपस्थित जीवद्रव्य को न्यूरोप्लास्म कहा जाता है। प्रत्येक न्यूरॉन के तीन भाग होते हैं :- साइटॉन, एक्सॉन और डेन्ड्रॉन।

  • यह ऊतक शरीर में होने वाली सभी ऐक्षिक और अनैक्षिक क्रियाओं का नियंत्रण करता है। 

Design Paper
Contact Us

Contact Information

…  6209908627  

  • Whats app
  • LinkedIn
  • Facebook
  • Twitter

                                              Thanks for your interest in Nutangyankosh.

                      For more information, feel free to get in touch and I will get back to you soon!

©2020 by nutangyankosh. Proudly created with Wix.com