google.com, pub-3332830520306836, DIRECT, f08c47fec0942fa0

पुरातात्विक साक्ष्य -  स्मारक/मूर्तियां /चित्रकला एवं अवशेष

स्मारक एवं भवन

  • प्राचीन काल के स्मारक और भवन हमें भारत के प्राचीन काल में विकसित हो रहे वास्तु कला के विकास व् भवन निर्माण शैली से अवगत कराते हैं। 

  • प्राचीन स्मारक एवं भवनों में सर्वप्रसिद्ध स्मारक हड़प्पा सभ्यता के भवन मिले हैं। 

  • लोहे के प्रयोग होने का साक्ष्य "अंतरजीखेड़ा" की खुदाई से प्राप्त हुए हैं। 

  • महाराज उदयन के  राज प्रसाद का अवशेष "कौशाम्बी" की खुदाई से मिले हैं। 

  • चन्द्रगुप्त काल के लकड़ी के बने महल का ध्वंशावशेष (Ruins) पाटलिपुत्र के खुदाई से मिले हैं। 

  • कश्मीरी नवपाषणिक पुरास्थल "बुर्ज होम" से गड्ढा घर मिला है, जिसमें निचे उतरने के लिए सीढ़ियाँ पायी गयीं। 

  • उत्तर भारत में मंदिरों का निर्माण "नागर शैली" में हुआ था। 

  • दक्षिण भारत की मंदिर कला शैली को "द्रविड़ शैली" कहा जाता है। 

  • दक्षिणापथ के मंदिरों की कला शैली को "बेसर शैली" कहा जाता है। 

 

मूर्तियां 

  • प्राचीन भारत में मूर्तियों का निर्माणकाल वृहत रूप से कुषाण काल से आरम्भ होता है। 

  • कुषाणकालीन मूर्तियों पर विदेशी प्रभाव साफ़ दिखाई देता है। 

  • गुप्त कालीन मूर्तियों पर देशी प्रभाव साफ़ दिखाई देता है। 

  • भरहुत, साँची, बोधगया और अमरावती में प्राप्त मूर्तियों से प्राचीन भारतीय जन सामान्य के जीवन की जानकारी मिलती है। 

 

चित्रकला 

  • प्राचीनकाल की उपलब्ध चित्रकला से हमें तत्कालीन जीवन के विषय में जानकारी मिलती है। 

  • अजंता के चित्रों से "माता और शिशु" तथा "मरणासन्न - राजकुमारी" जैसे चित्रों में शाश्वत भावों की अभिव्यंजना साफ़ परिलक्षित होती है। 

  • इन चित्रों से गुप्तकाल की कलात्मक परकाष्ठा का साक्ष्य मिलता है। 

 

अवशेष 

  • भिन्न स्थानों से खुदाई से प्राप्त अवशेषों से विभिन्न सभ्यताओं की विशेषताओं की जानकारी मिलती है। 

  • इन अवशेषों से हमें प्रागैतिहासिक काल और आध इतिहास की महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है। 

  • मोहनजोदड़ो के अवशेष से हड़प्पा सभ्यता - संस्कृति की काफी जानकारी मिलती है। 

  • मोहनजोदड़ो की खुदाई से मिले 500 से अधिक अभिरुचियों का पता चला है। 

  • "बसाढ़" से प्राप्त मिटटी की मुहरें व्यापारिक श्रेणियों के विषय में जानकारी देते हैं। 

  • प्राचीन भारतीय अवशेषों से "प्राचीन भारत में लोहे का प्रयोग" होने की जानकारी प्राप्त होती है। 

Design Paper
Contact Us

Contact Information

…  6209908627  

  • Whats app
  • LinkedIn
  • Facebook
  • Twitter

                                              Thanks for your interest in Nutangyankosh.

                      For more information, feel free to get in touch and I will get back to you soon!

©2020 by nutangyankosh. Proudly created with Wix.com